श्रीमद भगवद गीता - हिंदी में


श्रीमद भगवद गीता - हिंदी में

श्रीमद भगवद गीता - हिंदी में

India App Stores

0  

About Us

श्रीमद भगवदगीता

पवित्र गीता जी के ज्ञान को उस समय बोला गया था जब महाभारत का युद्ध होने जा रहा था। अर्जुन ने युद्ध करने से इन्कार कर दिया था। युद्ध क्यों हो रहा था?
श्रीमद्भगवद्‌गीता के सभी अट्ठारह अध्यायों के नाम अग्रलिखित प्रकार से हैं: 1. अर्जुनविषादयोग 2. सांख्ययोग 3. कर्मयोग 4. ज्ञानकर्मसंन्यासयोग 5. कर्मसंन्यासयोग 6. आत्मसंयमयोग 7. ज्ञानविज्ञानयोग 8. अक्षरब्रह्मयोग 9. राजविद्याराजगुह्ययोग 10. विभूतियोग 11. विश्वरूपदर्शनयोग 12. भक्तियोग 13. क्षेत्र-क्षेत्रज्ञविभागयोग 14. गुणत्रयविभागयोग 15. पुरुषोत्तमयोग 16. दैवासुरसम्पद्विभागयोग 17. श्रद्धात्रयविभागयोग 18. मोक्षसंन्यासयोग

श्रीमद् भगवद् गीता विश्वभर में भारत के आध्यात्मिक ज्ञान के मणि के रूप में विख्यात है। भगवान् श्रीकृष्ण द्वारा अपने घनिष्ठ मित्र अर्जुन से कथित गीता के सारयुक्त 700 श्लोक आत्मसाक्षात्कार के विज्ञान के मार्गदर्शक का अचूक कार्य करते है।
श्रीमद्भगवद्‌गीता संसार का प्रथम और समग्र मनस शास्त्र है। भगवान श्रीकृष्ण द्वारा कुरुक्षेत्र की समरभूमि में उपदेशित इस शास्त्र में कुल अध्यायों की संख्या अट्ठारह है तथा कुल श्लोकों की संख्या लगभग सात सौ है। गीता का उल्लेख महाभारत के शांति पर्व में मिलता है। इसके संकलनकर्ता महर्षि वेदव्यास हैं।
क्यों कही गयी गीता?
जब रणक्षेत्र में अपने बंधु-बांधवों को अपने सामने देख गांडीवधारी अर्जुन शोकग्रस्त होकर नैराश्य की चरम सीमा पर पहुंच जाते हैं तब सर्वेश्वर भगवान श्रीकृष्ण उन्हें पुनः कर्तव्ययुत करने हेतु गीता दर्शन का साक्षात्कार करवाते हैं।
गीता में मनुष्य़ की सभी समस्याओं का समाधान मिल जाता है क्योंकि इसका सारभूत तत्व ही कर्ता विहीन कर्म है। गीता का आरंभ धर्म से तथा अंत कर्म से होता है। गीता मनुष्य को प्रेरणा देती है। मनुष्य का कर्तव्य क्या है? इसी का बोध करवाना गीता का लक्ष्य है।
गीता का उपदेश अत्यन्त पुरातन योग है। गीता की गणना विश्व के महानतम ग्रंथों में की जाती है।

मनुष्य के स्वभाव, उसके परिवेश तथा अन्ततोगत्वा भगवान् श्रीकृष्ण के साथ उसके सम्बन्ध को उद्घाटित करने में इसकी तुलना में अन्य कोई ग्रन्थ नहीं है।
गीता वेदों और उपनिषदों का सार है. यह सब समय के लिए सभी स्वभाव के लोगों के लिए एक सार्वभौमिक शास्त्र है.

App Features

पवित्र गीता जी के ज्ञान को उस समय बोला गया था जब महाभारत का युद्ध होने जा रहा था। अर्जुन ने युद्ध करने से इन्कार कर दिया था। युद्ध क्यों हो रहा था?

Additional Information

Size:

1 MB

Version:

3.0

Developer Details:

zumgotleekomatta@gmail.com

Last Updated:

May 11, 2017

Installs:

0 - 1,000

Requires Android:

Android KitKat ( 4.4 )

Interactive Elements:

Users interact

Offered By:

India App Stores

Package

com.sahitya.appby.gitasar

Note : This app belongs to their original developers.